रविवार, 26 जनवरी 2014

Copyright Message

Please don't copy anything from this blog. This will be violation of copyright.Also, I appeal you all not to copy these as these are my feelings which have taken the form of poems...Would you like if someone imitates your feelings...?

जीवन तू क्या है...




कल मैंने पूछा,
जीवन तू क्या है:
बेफिक्री मेरे बचपन की,
मस्ती मेरे यौवन की,
या आँख में बसा
धूआँ है;
जीवन तू क्या है---
मिलन की ख़ुशी,
बिछडन का दुःख,
या बस साथ चलने का
मजा है;
जीवन तू क्या है---
दौलत का उन्माद,
खिन्नता अभावों की,
या एक फकीराना
अदा है;
जीवन तू क्या है---
हौले-से पास के
मुझको गले लगा के,
जीवन यूँ मुस्कराया
और भेद ये बताया:
जीवन का राज ये है
बस हँस के जिए जाओ,
राहों में जो भी मिलता
उसको गले लगाओ,
कुछ कर सको तो कर दो
दुनिया किसी की रौशन,
यदि कर सको तो कर दो
तन-मन किसी पर अर्पण;
इतना ही तो है जीना
कि हर कोई हो जिन्दा,
छोड़ें जहाँ ये जिस दिन
करें मौत को शर्मिन्दा...


 

मंगलवार, 7 अगस्त 2012

भगवान, लोकतंत्र और दूध

आज मुझे इन्टरनेट पर मेरी लिखी एक कहानी की लिंक मिली. ये कहानी गणेश जी के दूध पीने की घटना को नेपथ्य में लेकर चलती है. मूल रूप से ये कहानी अप्रैल, २००८ में सृजनगाथा में प्रकाशित हुई थी. लिंक ये रही :

यहीं देखें:
भगवान, लोकतंत्र और दूध

सृजनगाथा पर देखें:
भगवान, लोकतंत्र और दूध

आप सबकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहेगी...

शनिवार, 12 मई 2012

कल दिनांक 11 मई को मंटो का जन्मदिन था. जी हाँ, मैं महान अफसानानिगार सदाअत हसन मंटो की बात  रहा हूँ। 1912 में अविभाजित पंजाब के समराला गाँव में उनका जन्म हुआ था. कल अखबार में देखा तो मिला की उनके गाँव में बस एक छोटा-सा पुस्तकालय उनके नाम पर बना है. एक कमरे के इस पुस्तकालय में कुल जमा दो पुस्तकें हैं मंटो साहब की...! वाह रे भारत! जनता के पैसे से नेता लोग अपने स्मारक और बुत तो 
बनवा सकते हैं पर एक लेखक का और क्या हस्र हो सकता है...?

रविवार, 21 फ़रवरी 2010

...............!!!

आँखें तो बहाना ढूढती है
छलकने का,
कभी तुमसे दूर होने की पीड़ा
तो कभी
पास होने की ख़ुशी।
लेकिन बहुत से पल ऐसे भी होते हैं
जब तुम दूर होकर भी दूर नहीं होती
या फिर
पास होकर भी कहीं दूर...
ऐसे पलों में क्या करें
बेचारी आँखें...!

बुधवार, 13 जनवरी 2010

कल की रात जौनपुर में तापमान मात्र ४ डिग्री रहा। इस दौरान मैं अमेठी में लगातार फील्ड वर्क के लिए गाँव-गाँव घूमता रहा अपने ड्राईवर के साथ। जब मुझे वैन के भीतर भी ठण्ड लगने लगी तो अहसास हुआ कि अब ठण्ड सचमुच बहुत ज्यादा हो गयी है। ये भी सोचता हूँ कि जब इतनी सुविधाओं के बावजूद मैं ठण्ड से काँप रहा हूँ तो वो गरीब लोग जिनके पास रहने के लिए एक ढंग की झोपड़ी तक नहीं है वो गुजारा कैसे करते होंगे...? आजादी की इतनी वर्ष गांठें पूरी करने के बाद भी ग़रीबों को न तो अपने नसीब से आजादी मिल सकी और न ही अपनी विवशताओं से। सरकार ने न जाने कितनी योजनायें चलाई और बंद की पर इन गरीबों की हालत जस की तस है। योजना लागू करने वाले सरकारी कर्मचारियों के मकानों में नयी-नयी मंजिलें जुडती गयीं पर गरीब की झोंपड़ी आज भी छिद्रान्वेषित छप्पर का छटा लगाये जर्जर दीवारों पर खड़ी है और पूछ रही है कि वो भारत-भाग्य विधाता कहाँ है जिसके गुण गा-गा कर फूले पेट और टेढ़ी टांगों वाले हमारे बच्चे बड़े होते हैं...हर बार लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री जो वादे छोटी छोटी वो गाँव के धरातल तक पहुँचने से पहले कहाँ गुम हो जाते हैं...? छोटी-छोटी तनख्वाह पाने वाले ये सरकारी कर्मचारी कैसे इतना रईशाना जीवन बिता पाते हैं...? कल तक छोटे-मोटे काम करने वाला ग्राम प्रधान अचानक इतना अमीर कैसे हो जाता है...? और तो और, हमारे नेता गण कैसे अचानक इतने अमीर हो जाते हैं कि वो चुनाव में टिकेट पाने के लिए १-१ करोड़ रूपये खर्च कर देते हैं...? उत्तर हर कोई जानता है पर कोई स्वीकार नहीं करना चाहता। लोग भ्रष्टाचार का विरोध इसलिए भी नहीं करना चाहते कि वो स्वयं उस से कभी लाभ पाने की आशा सजोए बैठे होते हैं। अगर कोई किसी जांच में किसी भ्रष्ट कर्मचारी को पकड़ ले तो बाकी सभी उसे ही बचाने में लग जाते हैं...! ऐसे में अगर आप ईमानदारी से जीवन बिताना व गरीबों के लिए काम करना चाहते हैं तो आपके इष्ट-मित्र व रिश्तेदार आपसे किनारा करने लग जाते हैं क्यूंकि उनके अनुसार आपके दिमाग में कोई न ठीक हो सकने वाली दिक्कत आ गयी है...! वातावरण का ठंडापन तो सह भी लिया जाये पर रिश्तों के इस ठंडेपन का कोई क्या करे...???ऐसे में क्या कोई आस बाकी भी है...!!!

किन्तु सब कुछ अभी ख़त्म नहीं हुआ है...मैं गौरीगंज ब्लाक के अर्गावां गाँव में महिलों के समूह का अध्यन कर रहा था जिस दुआरान मैं उनकी समस्याओं से रूबरू हुआ। मैंने उस गाँव में एक रात भी बिताई और उन्हें करीब से जाना-समझा। उनकी समस्याओं के हल के लिए मैंने अपने स्तर पर प्रयास किये और इश्वर की कृपा से वो प्रयास कारगर भी हुए। कल जब मैं अमेठी में अपना काम पूरा कर वापस जौनपुर लौट आया तो अर्गावां से महिलाओं का फ़ोन आया वो बिलकुल भी नहीं चाहती थीं कि मैं उन्हें उन्हें छोड़ कर मुंबई वापस जाऊं। मेरे यह कहने पर कि मेरा सारा काम तो मुंबई में ही पड़ा है उन लोगों ने कहा कि मैं अपना काम मुंबई से उठा कर उनके गाँव ले जाऊं और मेरे लिए वो महिलायें एक घर बना देंगी तथा मेरे भोजन आदि की सारी व्यवस्था वो देख लेंगी...! मेरे काम की इस से बेहतर तारीफ़ आज-तक मुझे नहीं मिली थी...इस से यह भी पता चलता है कि अगर ईमानदारी से काम किया जाए तो लोगों का नसीब और दिल दोनों ही बदला जा सकता है...बस आप यश के मोह में न पड़ें...

शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

शुभ दीप पर्व

तमसोमा ज्योतिर गमय...

रविवार, 27 सितंबर 2009

कुछ लोग

चाहे कितने ही मेले जुटाएं,
चाहे लाख महफ़िल सजायें,
हर लम्हा तन्हा और अकेले
इस दुनिया रह जाते हैं
कुछ लोग...
दोस्त बन कर भी कहाँ
जुड़ पाते हैं
कुछ लोग...
जब साथ छोड़ कर चल देती है जिंदगी
हासिल कुछ भी नहीं
फ़क्त आवारगी,
फिर भी कहाँ
छोड़ पाते हैं जीना
कुछ लोग...

शुक्रवार, 25 सितंबर 2009

...?

कुछ लम्हे जो गुजर जाते हैं,
कुछ लोग जो हमसे
बिछड़ जाते हैं,
क्यूं याद आते हैं
इस तरह कि
फिर कुछ याद नहीं रहता...!
कभी वो लम्हे, वो लोग
फिर मिले तो
क्या याद रहेंगे...!!

शनिवार, 5 सितंबर 2009

क्या इंसान बने रहना इतना मुश्किल है...?

बहुत समय पहले दूरदर्शन पर एक सामाजिक संदेश आता था: 'जानवर बनना आसान हैं पर क्या इंसान बने रहना इतना मुश्किल है...?' उस समय मैं काफी कम उम्र का था किंतु उस संदेश की एक बात ने मुझे बहुत प्रभावित किया था कि विपरीत परिस्थितियों में भी हमें अपना मनुष्यत्व नहीं खोना चाहिए क्यूंकि यही हमें जानवर से अलग करता है। ३१ अगस्त, २००९ को कुछ ऐसा देखा कि यह संदेश बरबस याद हो आया। मैं मुंबई आ रहा था और हमारी ट्रेन नासिक रोड स्टेशन पर खडी हुई। मैं अपने कोच से उतर कर प्लेट्फ़ार्म पर काफी लेने आया। जब काफी लेकर पलता तो देखता हूँ कि मेरे कोच के एक सुवेशित सज्जन एक गरीब व्यक्ति को पीटने के लिए उद्यत हो रह थे और वह व्यक्ति भी उन्हें जबाब देना चाहता था किंतु उसे एक ६/७ वर्ष का बच्चा पीछे धकेल कर झगडे महिला भी एसी २। से नीचे एक प्रौदा महिला भी एसी-२ के कोच से नीचे उतरी और उस आदमी को जनरल डिब्बे की तरफ़ चलने के लिए कहने लेगी। मैंने अन्य लोगों से पता किया तो मालूम हुआ कि वह व्यक्ति यह नहीं समझ पा रहा था कि उसे जनरल डिब्बे में जाना चाहिए और शायद वो 'पीये हुए था' अतः मेरे कोच के वो अत्यन्त सभ्य दिखने वाले सज्जन उस पर अपनी वीरता का प्रदर्शन कर रहे थे। मुझे बहुत आश्चर्य हुआ कि जिसे मैं कल से ख़ुद नशे में धुत देख रहा हूँ (उन् सज्जन के पास जाने से ही शराब की जोरदार गंध आती थी) वो आज दूसरे को पीटना चाहता है क्यूंकि उसने शराब पी रखी है...? टी टी उसे ढंग से भी समझा सकता था कि उसे इस डिब्बे में बैठने की इजाजत नहीं है। क्या इंसान बने रहना उस स्थिति में इतना मुश्किल था...! मुझे उस आदमी की चिंता नहीं है और न ही उन सज्जन की। मुझे तो चिंता है उस छोटे बच्चे की जो आज अपने बड़े को झगडा करने से रोकने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा रहा है। शायद उसके मन में हमारे इस समाज के लिए बहुत अच्छी भावनाएं न पनपें...अगर हम जानवर ही बनना चाहते हैं तो कम से आने वाली पीढी के सामने तो ऐसा न करें। मैं ये बिल्कुल नहीं कहता कि उस व्यक्ति को भी हमें सादर एसी-२ में स्थान दे देना चाहिए था किंतु जो प्रतिक्रिया लोगों द्बारा दिखाई गयी यदि उससे बचा जा सकता तो कहीं अधिक बेहतर होता...!

मंगलवार, 11 अगस्त 2009

मोहे ब्रज बिसरत नहीं...

गोकुल के दिनों को याद करते हुए कृष्ण ने एक बार उद्धव से कहा:
'उद्धव मोहे ब्रज बिसरत नाही
हंस सुता की सुंदर कगरी
और वृक्षं की छाहीं...'
और यह भी सर्वविदित है कि कृष्ण एक बार गोकुल को छोड़ने के बाद दुबारा पलट कर वहां कभी नहीं गए। आख़िर ये क्या बात हुई कि आप हर किसी से कहते फिर रहे हैं कि आपको आपकी पुराणी जगह भुलाए नहीं भूलती पर आप पलट कर वहां नहीं जाते जबकि आपके लिए ये सर्वथा संभव था। मैं सोचा करता था कि इसके पीछे क्या राज रहा होगा...! और ये राज जब मुझ पर खुला तो मैं कृष्ण की दूरदर्शिता और सम्वेंदनशीलता का कायल हुए बिना न रह सका।
मुझे मेरे उस संस्थान में जहाँ से मैंने पी एच डी की हैं, एम फिल (विकाश अद्ध्य्यन) के पाठ्यक्रम निर्माण में कुछ सहायता के लिए बुलाया गया। जब मैं संस्थान (जी बी पन्त समाज विज्ञान संस्थान) में पहुँचा तो पुरा दिन तो बहुत व्यस्त रहा। जब शाम हुई तो मुझे याद आया कि इसी जगह पर मेरे साथ कल कितने लोग थे जिनसे कहे-अनकहे जाने कितनी रिश्ते जुड़ गए थे...जाने कितने सपने बिखरे थे इन् राहों में...गुलमोहर के फूल अपने में कितनी कहानियाँ लपेटे हुए थे और ये अमलताश जाने किसका श्रींगार करने की हसरत दिल में बसाए युगों से चुपचाप खड़े थे...! और इन् सबके बीच यादों को गर्म कम्बल की तरह कसकर लपेटे खडा था मैं...लग रहा था मैं क्यूं वापस आया...? मन में दोनों भाव एक साथ विद्यमान थे: 'मोहे ब्रज बिसरत नहीं...' और ब्रज में आने के बाद का सूनापन...!
जीवन कैसा अजीब है न...!!!

मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

मैं...

वक्त की आँखों में छलक आयी आंसू की बूँद-सा मैं,
देख रहा हूँ समय की चाल,
जो भरता हुआ लंबे-लंबे डग
मुझसे परे जा रहा है...!

शुक्रवार, 27 मार्च 2009

नियति

माथे पर खुदी लकीरें,
या फिर किसी अनदेखे भगवान् की बही में दर्ज उधार,
जाने क्या है जो ग़लत है
और यही ग़लत चुभ रहा है मुझे
मेरी आत्मा को भेद कर...
अस्तित्व के आर-पार निकला हुआ एक शूल-सा,
दर्द से घिरी रूह-सा बेचैन और एकाकी मैं
अनचाहा, अनसुना, गुमनाम राहों में भटकता मैं,
ऐसे ही गुजर जाऊंगा एक दिन चुपचाप
ये नियति है शायद मेरी...
पर ये क्यूं है...?

गुरुवार, 26 मार्च 2009

जिंदगी...

जिंदगी!
क्यूं उतर गया तेरा खुमार...
जैसे
शराब का उतरा हो नशा,
या
आख़िरी कश लेकर फेकीं सिगरेट से निकलता हो धुआँ...
किसी काम का नहीं...
कब मुड गयी तू जिंदगी
इन् गुमनाम राहों पर
जिन पर बस गर्द बिछी है
और बिछे हैं गम...

मंगलवार, 17 मार्च 2009

आजकल गुवाहाटी में धूल-भरे अंधड़ चल रहे हैंकल हमारे संस्थान में एक सेमिनार होने वाली थी पर हो सकी क्यूंकि वक्ता का वायुयान सका थामेरे लिए तो ये धूल और भी मुश्किल खडी कर दे रही है क्यूंकि मैं इसे बिल्कुल भी नहीं बर्दास्त कर पाताBold
ये अंधड़ अगर केवल बाहर ही चल रहे होते तो कोई बात थी...अन्दर भी काफी कुछ घुमड़-सा रहा हैजीवन के सभी रास्ते वक्त की धूल में खो गए से लग रहे हैं...मंजिल का तो पता है पर उस तक पहुँचने वाले रास्ते का नहीं...! जो राह नज आती है, उस पर बुल-डाग सरीखे पहरेदार बैठे हैं: 'रुको, रुको कहाँ जा रहे हो...? जानते नहीं कि ये रास्ता आम नहीं है...इस पर चलने के लिए नीला खून (Blue blood) चाहिए और तुम्हारा खून तो लाल है...फिर तुमने कैसे सोच लिया कि तुम इस राह पर कदम रख सकते हो...???' उन्हें क्या पता कि हम एक दिन कुछ ऐसे गुजरेंगे कि फिर वो राह हर किसी के लिए खुल जायेगी...! पर उस दिन के आने तक क्या करें...? बस मैं हूँ और मेरे सपने...हम चले जा रहे हैं उस राह की तलाश में जो हमें हमारी मंजिल तक ले जायेगी....!

सोमवार, 16 फ़रवरी 2009

शब्दों का अर्थ कहाँ होता है...?

शब्दों का अर्थ
शब्दों में नहीं होता,
वरना
सभी समझते
सबके मन की बात...
ये अर्थ इशारों में भी नहीं होता,
वरना
कुछ भी रहता अनकहा
दो मन के बीच...
शब्दों का अर्थ
अक्सर खामोशी में भी नहीं होता,
वरना क्या मैं अनसुना रहता...
शब्दों का अर्थ तो
धारा-सा बहता है
मन से मन के बीच,
अगर जुड़ सकें उनके तार:
वही अनदेखे तार जिन्हें
भावना कहती है दुनिया,
जो अर्थ देती है शब्दों को
वरना
ख़ुद-से तो ये शब्द गूंगे हैं...!

गुरुवार, 12 फ़रवरी 2009

शब्दों का अर्थ...!

शब्दों के अर्थ कितने अलग हो सकते हैं...
'दुःख' मेरे लिए: सबका गम,
'खुशी' तुम्हारे लिए: तुम्हारी दुनिया,
क्या कभी ये अर्थ एक हो सकेंगे...!

बुधवार, 11 फ़रवरी 2009

जिंदगी की किताब...!

जिंदगी की किताब
आज देखने का अवसर मिला तो
हैरान रह गया,
पीले पड़े, मुड़े-तुडे पन्ने,
आंसुओं के दाग...
मुरझाई पंखुडि़याँ
और दीमक-चटी जगहें
जहाँ कभी लिखा रहा होगा:
'खुशी'...!

सोमवार, 9 फ़रवरी 2009

ओ माझी रे...!

video

समय का स्वरुप...! (२)

आज हम अपनी चर्चा को आगे बढाते हैं...
समय के स्वरुप की हमारी पिछली चर्चा में मैंने समय की जो संभावित अवधारणा सामने रखी थी उसके अनुसार समय ३-विमाओं से बना है, ठीक वैसे ही जैसे कोई रस्सी। लेकिन समय का यह स्वरुप अनेक प्रश्न खड़े कर रहा था भविष्य-दर्शन के बारे में। जो लोग भविष्य-दर्शन जैसी किसी संभावना से इनकार करते हैं, उनके लिए इसका दूसरा स्वरुप: समय के परे यात्रा (टाइम ट्रेवल)।
मैं समय के n-विमाओं वाले स्वरुप की बात सोच रहा हूँ...एक सरल उदाहरण: एक नदी में अथाह जल-राशि बह रही है। बाहर से देखने पर लगता है की ये सारा जल एक ही है...किंतु ऐसा है क्या...! नहीं। उस अथाह जल-धारा में अनेक छोटी-छोटी जल-धाराएं समाहित हैं। इससे प्रकार से समय भी है। समय की एक अथाह राशि में यह ब्रह्माण्ड तैर रहा है। या दूसरे शब्दों में कहें तो ऐसे अनेकानेक ब्रह्माण्ड तैर रहे हैं...technically, universes are embedded in the Time...टाइम ट्रेवल एक ब्रह्माण्ड से दूसरे में जाना है।
अब प्रश्न ये उठता है कि इन अनेकानेक ब्रह्माण्ड के बीच समय अलग-अलग कैसे बह रहा है। आख़िर क्या चीज है जिसने समय को स्वयं में समाहित कर रखा है, जैसे जल-राशि को नदी के दोनों पात बाँध कर रखते हैं। आख़िर जब सारी चीजें समय में ही समाहित हैं तो फिर इससे कौन बांधता है...? ये ठीक वैसी ही उलझन है जैसे एक ऐसे द्रव्य को रखने के लिए पात्र ढूढना जो सारी वस्तुओं को घोल देता है...! लेकिन समय के संदर्भ में एक उत्तर सूझ रहा है मुझे: समय को समय ही बांधता है। समय और समय की दो धाराओं के बीच अन्तर समय के बहने की गति का होता है। अत: अलग-अलग गतियों से बहकर और बंध कर समय ने अलग-अलग ब्रह्माण्ड ख़ुद में समाहित कर रखे हैं...!
समय के स्वरुप की ये अवधारणा उस समस्या का भी आंशिक हल दे दे रही है जिससे हमने समय के बारे में चर्चा शुरू की थी अर्थात भविष्य दर्शन की और उसे बदलने की। जब हम भविष्य देखते हैं तो दरअसल हम समय की एक दूसरी धारा में प्रवेश कर चुके होते हैं जो हमारी पुरानी धारा की तुलना में तेज गति से बह रही है।
लेकिन भविष्य को परिवर्तित कर पाना अभी भी मुझे सोचने पर मजबूर कर रहा है...
शेष चर्चा फिर कभी...!

शनिवार, 7 फ़रवरी 2009

समय का स्वरुप...!

मैं गहरी सोच में हूँ: क्या भविष्य का कोई अस्तित्व वर्तमान में भी है...? कभी-कभी हमें होने वाली घटनाओं का पूर्वाभाष हो जाता है इसका अर्थ ये हुआ कि जो होने वाला है उसका सूत्र पहले ही बुना जा चुका है यह कुछ-कुछ उसी प्रकार है जैसे कोई आँखों पर पट्टी बाँध कर एक रस्सी को हाथ में ले महसूस करे...जिसका हाथ जितना लंबा होगा, वह उस रस्सी की उतनी ही अधिक लम्बाई को महसूस कर सकेगा आँख खोलने पर भी उसे वह रस्सी दिखेगी क्यूँकि रस्सी का अस्तित्व हमारे महसूस करने की सीमा से कहीं अधिक है ऐसे ही समय एक रस्सी जैसा हो सकता है जिसका अस्तित्व हमारे महसूस करने की सीमा से कहीं अधिक है आँखें बंद कर रस्सी को महसूस करने वाला कभी-कभी अपने हाथों की लम्बाई की सीमा के परे भी जा सकता है, अगर रस्सी बीच से मोड़ दी जाई तो....! इसी प्रकार कभी-कभी हमारा मन समय को मोड़ उसके परे निकल जाता है ऐसी दशा में वह जो महसूस करता है वो समय का वह अंश होता है जो अभी आना शेष है यही पूर्वाभाष है
अब थोड़ा आगे सोचते हैं...अगर हमने आने वाले समय को उसके आने से पहले-ही जान लिया तो क्या हम उसे बदल भी सकते हैं...! जैसे मैं देखा कि आने वाले समय में मेरे दोस्त की कलम उसके हाथ से छूट कर एक नदी में गिरने वाली है और ये कल ही होने वाला है मैंने अपने दोस्त को ये बताया और उसने अगले दिन नदी की सैर पर जाने से पहले अपनी कलम घर पर ही छोड़ दी जाहिर है अगर कलम है ही नहीं तो गिरेगी कैसे...? अगर मेरा दोस्त अपनी कलम गिरने से बचा पता है तो एक नया प्रश्न उठ खडा होता है: जो मैंने देखा था उसके अनुसार तो दोस्त की कलम इस समय नदी में होनी चाहिए थी किंतु ऐसा नहीं हुआ अर्थात हमने आने वाले समय को बदल दिया...! एक बार फिर से रस्सी वाले उदाहरण की बात करें तो रस्सी का जो भाग हमने महसूस किया था, वो दरअसल है ही नहीं तो फिर हमने उसे महसूस कैसे किया...? क्या एक बिन्दु के बाद रस्सी के दो अलग-अलग भाग हो जाते हैं...जिसमें से एक को मैंने महसूस किया और दूसरा फिर भी अनदेखा रहा...अगर मैंने भविष्य को देखने के बाद उसे बदल दिया तो वो भविष्य कैसे रहा...? दूसरी संभावना ये हो सकती है कि किसी प्रकार से मेरा देखा हुआ सच हो जाए अर्थात मेरे दोस्त की कलम नदी में गिर ही जाए इस संभावना में रस्सी तो ठीक-ठाक रहती है पर एक अलग प्रश्न खडा होता है: इस पूरे ब्रह्माण्ड में जो कुछ भी हो रहा है और होने वाला है उसका खाका किसी ने पहले से ही खींच रखा है...! कोई शक्ति है जो समय को निर्धारित कर रही है, अब ये हमारे ऊपर है कि हम उस शक्ति को क्या नाम देते हैं
पहले वाली संभावना जहाँ भविष्य को देखने के बाद उसव बदलने की गुंजाईश है यह इंगित करती है कि समय की कुछ समानांतर धाराएं हैं और अगर हममें सामर्थ्य है तो हम अपनी मनचाही धारा के समय को चुन सकते हैं...! इसका अर्थ ये भी है कि जिस ब्रह्माण्ड में हम हैं यह ही एक अकेला ब्रह्माण्ड नहीं है बल्कि ऐसे अनगिनत ब्रह्माण्ड मौजूद हैं...!
हम आगे पुन: चर्चा करेंगे इस प्रसंग पर...!